प्रार्थना के लिए बाइबिल आयत || Bible Verses for Prayer

  • Home
  • Content
  • Bible Verses
  • प्रार्थना के लिए बाइबिल आयत || Bible Verses for Prayer

प्रार्थना एक शक्तिशाली अभ्यास है जो हमें अपने निर्माता के साथ संवाद करने, मार्गदर्शन प्राप्त करने, सांत्वना पाने और हमारे विश्वास को गहरा करने का अवसर देती है है। प्रार्थना के क्षेत्र में, बाइबल के आयतों का अत्यधिक महत्व है क्योंकि वे ज्ञान, प्रोत्साहन और विश्राम के शब्दों की पहचान करते हैं। वे शक्ति, मार्गदर्शन और आध्यात्मिक पोषण के स्रोत के रूप में काम करते हैं। इस पोस्ट में, हम प्रार्थना में बाइबल की आयतों के गहरे प्रभाव की खोज करेंगे, यह खोज करेंगे कि कैसे वे हमारे प्रार्थना जीवन को बदल सकते हैं और हमें ईश्वर के करीब ला सकते हैं। परमेश्वर के वचन की परिवर्तनकारी शक्ति की खोज करें क्योंकि हम अपनी प्रार्थनाओं में बाइबल की आयतों के माध्यम से शक्ति और मार्गदर्शन प्राप्त करने की यात्रा शुरू करते हैं।

सो तुम इस रीति से प्रार्थना किया करो; “हे हमारे पिता, तू जो स्वर्ग में है; तेरा नाम पवित्र माना जाए। तेरा राज्य आए; तेरी इच्छा जैसी स्वर्ग में पूरी होती है, वैसे पृथ्वी पर भी हो। हमारी दिन भर की रोटी आज हमें दे। और जिस प्रकार हम ने अपने अपराधियों को क्षमा किया है, वैसे ही तू भी हमारे अपराधों को क्षमा कर। और हमें परीक्षा में न ला, परन्तु बुराई से बचा; क्योंकि राज्य और पराक्रम और महिमा सदा तेरे ही हैं।” आमीन।
मत्ती 6:9-13
अब मैं सब से पहिले यह उपदेश देता हूं, कि बिनती, और प्रार्थना, और निवेदन, और धन्यवाद, सब मनुष्यों के लिये किए जाएं। राजाओं और सब ऊंचे पद वालों के निमित्त इसलिये कि हम विश्राम और चैन के साथ सारी भक्ति और गम्भीरता से जीवन बिताएं। यह हमारे उद्धारकर्ता परमेश्वर को अच्छा लगता, और भाता भी है। वह यह चाहता है, कि सब मनुष्यों का उद्धार हो; और वे सत्य को भली भांति पहिचान लें।
1 तीमुथियुस 2:1-4
इसलिये मैं तुम से कहता हूं, कि जो कुछ तुम प्रार्थना करके मांगो तो प्रतीति कर लो कि तुम्हें मिल गया, और तुम्हारे लिये हो जाएगा।
मरकुस 11:24
यदि तुम मुझ में बने रहो, और मेरी बातें तुम में बनी रहें तो जो चाहो मांगो और वह तुम्हारे लिये हो जाएगा।
यूहन्ना 15:7
इसी रीति से आत्मा भी हमारी दुर्बलता में सहायता करता है, क्योंकि हम नहीं जानते, कि प्रार्थना किस रीति से करना चाहिए; परन्तु आत्मा आप ही ऐसी आहें भर भरकर जो बयान से बाहर है, हमारे लिये बिनती करता है।
रोमियो 8:26
परन्तु जब तू प्रार्थना करे, तो अपनी कोठरी में जा; और द्वार बन्द कर के अपने पिता से जो गुप्त में है प्रार्थना कर; और तब तेरा पिता जो गुप्त में देखता है, तुझे प्रतिफल देगा।
मत्ती 6:6
निरन्तर प्रार्थना मे लगे रहो। हर बात में धन्यवाद करो: क्योंकि तुम्हारे लिये मसीह यीशु में परमेश्वर की यही इच्छा है।
1 थिस्सलुनीकियों 5:17-18
इसलिये तुम आपस में एक दूसरे के साम्हने अपने अपने पापों को मान लो; और एक दूसरे के लिये प्रार्थना करो, जिस से चंगे हो जाओ; धर्मी जन की प्रार्थना के प्रभाव से बहुत कुछ हो सकता है।
याकूब 5:16
प्रार्थना करते समय अन्यजातियों की नाईं बक बक न करो; क्योंकि वे समझते हैं कि उनके बहुत बोलने से उन की सुनी जाएगी।
मत्ती 6:7
मुझ से प्रार्थना कर और मैं तेरी सुन कर तुझे बढ़ी-बड़ी और कठिन बातें बताऊंगा जिन्हें तू अभी नहीं समझता।
यिर्मयाह 33:3
जागते रहो, और प्रार्थना करते रहो, कि तुम परीक्षा में न पड़ो: आत्मा तो तैयार है, परन्तु शरीर दुर्बल है।
मत्ती 26:41
और मैं तुम से कहता हूं; कि मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूंढ़ों तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा।
लूका 11:9
और हर समय और हर प्रकार से आत्मा में प्रार्थना, और बिनती करते रहो, और इसी लिये जागते रहो, कि सब पवित्र लोगों के लिये लगातार बिनती किया करो।
इफिसियों 6:18
प्रार्थना में लगे रहो, और धन्यवाद के साथ उस में जागृत रहो।
कुलुस्सियों 4:2
तब उस समय तुम मुझ को पुकारोगे और आकर मुझ से प्रार्थना करोगे और मैं तुम्हारी सुनूंगा।
यिर्मयाह 29:12
धर्मी दोहाई देते हैं और यहोवा सुनता है, और उन को सब विपत्तियों से छुड़ाता है।
भजन संहिता 34:17
और हमें उसके साम्हने जो हियाव होता है, वह यह है; कि यदि हम उस की इच्छा के अनुसार कुछ मांगते हैं, तो हमारी सुनता है।
1 यूहन्ना 5:14

सेवकाई में भेंट भेजकर सहभागी बनें

Bank : Union Bank || A/C No. 178010100035225 || IFSC : UBIN0817805 || Google Pay, Paytm, PhonePe - 9592485467
बंद करें
सेवकाई में भेंट भेजकर सहभागी बनें